क्यूं महिलाएं बढ़ रहीं एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की ओर- women cheating husband

  जबड़ा फाड़ You are here
Views: 238

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर में कई चीज़ों का योगदान होता है, उन्ही में कुछ आँखें खोल देने वाले कारण ये है.

Shocking reasons for extra marital affairs revealed

Image Credit: Pexel

SDM ज्योति मौर्य हो या पाकिस्तान की सीमा हैदर, दिल्ली मेट्रो में पकड़ी गई बेवफा पत्नी हो या कोई पड़ोस की कोई महिला ही क्यूं ना हो, एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के किस्से दिन- ब - दिन ताज़ा ख़बर का हिस्सा बनते जा रहे है। 

जहां समाज ऐसी महिलाओं को गाली दे रहा और उनके बेवफाई के किस्से चिल्ला - चिल्ला कर उन्हे शर्मिन्दा करने में शामिल है, वही दूसरी ओर उनके पीड़ित पतियों को समाज से सहानुभूति मिल रही है। 

चाहे पुरुष हो या महिला, एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर में कई चीज़ों का योगदान होता है, उन्ही में कुछ आँखें खोल देने वाले कारण ये है: 

सहयोग की कमी - जब पति–पत्नी एक दूसरे को घर में साथ रहते हुए भी सहयोग देना बंद कर देते है, चाहे घर की जिम्मेदारियां में हाथ बटाना हो, बच्चो को देखना, या परिवार वालों से सामना करने के लिए साथ न देना हो, तब उनके बीच मन मुटाव की शुरुआत होती है। ऐसे में पति या पत्नी, स्वयं का सपोर्ट सिस्टम बनाने लगते है, उन्ही में से एक ज़रिया होता है एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर। ऐसा रास्ता जो समाज में सबसे घटिया माना जाता है, क्यूंकि ये घर तोड़ने और रिश्ते ख़राब करने का काम करता है। शुरुआत अपने लिए एक हमदर्द या दोस्त ढूंढने से होती है, और नज़दीकी बढ़ते बढ़ते एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर बन जाती है। लेकिन ऐसे रिश्ते को न पति और ना ही पत्नी जस्टिफाई कर सकती है। 

Also read: 

2 arrests in the Seema Haider case, know the connection

Manipur sexual violence: Actual phone with videos of women recovered from accused

सोशल मीडिया - फेसबुक, व्हाट्सऐप, इंस्टाग्राम और अब तो PUBG जैसे गेम्स भी, एक्सट्रा मैरिटल अफेयर के लिए एक बढ़ता हुआ ज़रिया है। और जैसे ही ज़रिए मिलते है, इंसान का मन विचलित होने लगता है, ज़्यादातर समय फोन पर बिताने के कारण पति – पत्नी एक दूसरे को समय नही दे पाते और उनके बीच दूरियां बढ़ने लगती है। ऐसे में वो अपने सोशल मीडिया फ्रेंड्स से और ज्यादा बातचीत बढ़ाने लगते है, और एक्सट्रा मैरिटल अफेयर कर बैठते है। 

प्रेम अभाव - अक्सर पत्नियां अपने पतियों को एक ताना ज़रूर देती है ‘अब तुम पहले जैसे नहीं रहे, पहले तुम कितना प्यार करते थे, मेरा कितना ख्याल रखते थे ’। ये बात चाहे अरेंज्ड मैरिज हो या लव मैरिज, पत्नियां शादी के कुछ ही महीने बीतने पर ये अपने पतियों को एहसास दिलाने लगती है। और वहीं पति भी शादी के कुछ महीनों बाद ही, अपनी पत्नी की ओर ध्यान देना छोड़ रोज मर्रा वाली जिंदगी में लग जाता है। ऐसे ही पत्नियां भी शादी के एक - दो साल बीतने के बाद, घर और बच्चों की जिम्मेदारियों में फंसी अपने पति की ओर ध्यान देना छोड़ देती हैं। वो शुरुआती दिनों वाला प्यार/ स्नेह याद करके दोनो ही फिर से प्यार ढूंढने लगते है, और जब वो एक दूसरे में वो प्यार नही ढूंढ पाते, तो एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का सहारा लेते है। 

आर्थिक तनाव - एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर में ज़्यादातर ऐसे ही लोग मिलेंगे जिन्हें पैसों का अभाव हो और वो अपने शौक़ (जोकि नियंत्रित इनकम से पूरे नही हो पा रहे) पूरे करने के लिए महिला या पुरुष मित्र बना लेते है। ये अफेयर के ज़रिए वे अपने घूमने फिरने और खाने पीने वाले शौक़ पूरे करते है। उन्हे अपने घर की इनकम से ज़्यादा खर्च करने की आदत होती है, और इसके चलते वे सही - गलत भूल कर एक्सट्रा मैरिटल अफेयर करने लगते है। इस तरह से वे अपने पार्टनर का और अपने बॉयफ्रेंड/ गर्लफ्रेंड का ख़ूब फ़ायदा उठाते हैं। 

छोटी उम्र में शादी - चाहे लव मैरिज हो या अरेंज मैरिज, कम उम्र में किए गए फैसलों का पछतावा लोग ज़रूर करते है। वो समझ आने से पहले ज़िम्मेदारियों में बंध जाते है और फिर आज़ादी ढूंढने लगते हैं। ऐसे में एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर उनको ऐसे बंधी हुई ज़िंदगी से आज़ादी का एक आसान रास्ता लगता है। इमैच्योरिटी या कहें कम अकल के चलते शादी तो कर लेते हैं, लेकिन जब शादी की जिम्मेदारियों की सच्चाई सामने आती है तो वे भागने लगते है। 

एक्सट्रा मैरिटल अफेयर हमारे समाज की ऐसी कड़वी सच्चाई है, जिससे हम और आप हमेशा से ही परिचित थे। लेकिन जिस तरह आजकल महिलाएं और पुरुष भी खुलकर/ बेखौफी से सामने आ रहे हैं, ये हमारे लिए निराशाजनक है, क्यूंकि इससे रिश्ते ख़राब होते है और इनसे जुड़े लोगों के दिलों को ठेस पहुंचती है। 

एक्सट्रा मैरिटल अफेयर करने से बचने के लिए ऊपर बताई गई बातों पर ध्यान ज़रूर दें, और कभी किसी को सलाह की जरूरत हो तो उन्हे समझाएं, की ऐसा कदम उठाने की बजाए उन्हें अपने रिश्ते ठीक करने चाहिए और समझदारी से फैसला लेना चाहिए, ताकि वे बदनामी से बच सकें और उनका पारिवारिक जीवन सुखद रहे। 

Read more: 

8 Bollywood dialogues effectively speaking women empowerment

Tamannaah Bhatia's Diamond: Here's what she says for owning fifth largest diamond in the world



Author Social Profile:


Latest Posts

Start Discussion!
(Will not be published)
(First time user can put any password, and use same password onwards)
(If you have any question related to this post/category then you can start a new topic and people can participate by answering your question in a separate thread)
(55 Chars. Maximum)

(No HTML / URL Allowed)
Characters left

(If you cannot see the verification code, then refresh here)