Santa ka padosi!!!

  जबड़ा फाड़ You are here
Views: 605
एक बहुत ही धार्मिक आदमी संता सिंघ के घर के बगल में रहता था

वो पूरे दिन प्रठना करता था

पूरी रात प्रठना करता था

और संता सिंघ भगवान को भी नहीं मानता था

लेकिन संता के घर में हमेशा खुशी रहती थी, उसके बच्चे हमेशा खेलते रहते थे.. उसकी बीवी हमेशा स्वस्थ रहती थी..

मगर उस धार्मिक के घर में सब उल्टा था

उसकी बीवी बीमार रहती थी

उसके बच्चे कभी घर पर नहीं मिलते

उसकी आमदनी बहुत कम थी

एक दिन वो धार्मिक आदमी जब अपनी भक्ति में लीन हो गया तो उसने भगवान की तरफ देखा और कहा "हे भगवान मैं हमेशा तेरी भक्ति करता हूँ, मैने कभी तुझसे कुछ नहीं माँगा ... मगर ये तेरी क्या लीला है तू मेरे पड़ोसी को कभी कोई दुख नहीं देता ...जबकि वो ना तुझे मानता है ना तेरे चमत्कार ना कभी तेरी प्रठना करता है.. मगर मैं हमेशा तेरी भक्ति में लीन रहता हूँ पूरे दिन तेरी प्रठना करता हूँ... मगर फिर भी तू मुझे पीड़ा पे पीड़ा दिए जेया रहा है... आख़िर क्यों????"

तब भगवान की आवाज़ आई "आबे! वो मुझे कभी परेशान नहीं करता!!!!"

====================================

Ek bahut hi dharmik aadmi santa singh ke ghar ke bagal mein rehta tha

Wo poore din prathna kerta tha

poori raat prathna karta tha

Aur santa singh bhagwan ko bhi nahin maanta tha

Lekin santa ke ghar mein hamesha khushi rehti thi, uske bachche hamesha khelte rehte the.. Uski biwi hamesha healthy rehti thi..

Magar us dharmik ke ghar mein sab ulta tha

Uski biwi bimaar rehti thi

Uske bachche kabhi ghar per nahin milte

uski aamdani bahut kam thi

Ek din wo dharmik aadmi jab apni bhakti mein leen ho gaya to usne bhagwan ki taraf dekha aur kaha "Hey bhagwan main hamesha teri bhakti kerta hoon, maine kabhi tujhse kuch nahin maanga ... MAGAR ye teri kya leela hai tu mere padosi ko kabhi koi dukh nahin deta ...Jabki wo na tujhe maanta hai na tere chamatkaar na kabhi teri prathna kerta hai.. MAGAr main hamesha teri bhakti mein reahta hoon poore din teri prathna kerta hoon... MAGAr phir bhi tu mujhe pida pe pida diye jaa raha hai... AKHIR KYON????"

Tab bhagwan ki aawaz aayi "Abe! Wo mujhe kabhi pareshan nahin kerta!!!!"


Latest Posts