जानिये औरत के त्याग और उसकी महत्ता को

Views: 990
Know how your mother and other women in your life made you what you are today

Image Credit: fulldhmaal.com


जानिये औरत के त्याग और उसकी महत्ता को 

बुद्ध अपने दूध पीते बच्चे को छोड़कर सत्य की यात्रा पर आसानी से निकल लिए थे.. अगर सत्य को जानने की बुद्ध जितनी जिज्ञासा यशोधरा के भीतर भी होती तो भी वो कभी बुद्ध ना बन पाती क्यूंकि मां के लिए सत्य खोजने से कहीं ज़्यादा ज़रूरी होता है अपना दूध पीता बच्चा.. माँ अपने नवजात के लिए अपने भीतर की सारी जिज्ञासा को दांव पर लगा सकती है.. यशोधरा चाह कर भी बुद्ध नहीं बन सकती थी क्योंकि उसकी गोद मे उसका नौनिहाल था.. यशोधरा के लिए अपने बालक को ही संजोना सत्य था
मां किसी भी रूप किसी भी वेश भूषा में हो..वो बस माँ होती है

~ताबिश







Author Social Profile:


Latest Posts