Apne Chehre se jo zaahir hai chupayen kaise.. By Waseem Barelvi

  Sher-o-shayari You are here
Views: 183
अपने चेहरे से जो ज़ाहिर है छुपायें कैसे

तेरी मर्ज़ी के मुताबिक नज़र आयें कैसे

घर सजाने का तस्सवुर तो बहुत बाद का है

पहले ये तय हो कि इस घर को बचायें कैसे

क़हक़हा आँख का बरताव बदल देता है

हँसनेवाले तुझे आँसू नज़र आयें कैसे

कोई अपनी ही नज़र से तो हमें देखेगा

एक क़तरे को समुन्दर नज़र आयें कैसे

(apne chehre se jo zaahir hai chupaayen kaise

teri marzi ke mutaabik nazar aayen kaise

ghar sajaane ka tasawwur bahut baad ka hai

pehle ye tay ho ke is ghar ko bachchayen kaise

kahkaha aankhon ka bartaav badal deta hai

hansne waale tujhe aahsoo nazar aayen kaise

koi apnee hi nazar se to hume dekhega

ek qatre hain samandar nazar aayen kaise )


Latest Posts