खुशबू जैसे लोग मिले अफ़साने में…. Gulzar

  Sher-o-shayari You are here
Views: 918
खुशबू जैसे लोग मिले अफ़साने में

एक पुराना खत खोला अनजाने में

जाना किसका ज़िक्र है इस अफ़साने में

दर्द मज़े लेता है जो दुहराने में

शाम के साये बालिस्तों से नापे हैं

चाँद ने कितनी देर लगा दी आने में

रात गुज़रते शायद थोड़ा वक्त लगे

ज़रा सी धूप दे उन्हें मेरे पैमाने में

दिल पर दस्तक देने ये कौन आया है

किसकी आहट सुनता है वीराने मे ।

-------------------------------

Khushboo jaise log mile afsaane mein...

Ek Purana Khat khola anjane mein

Jaane kiska zikr hai is afsaane mein...

Dard maze leta hai jo dohraane mein

Shaam ke saaye baliston se naape hain...

Chand ne kitni der laga di aane mein

Raat guzarte shayad thoda waqt lage

Zara si dhuup de unhen mere paimane mein

Dil par dastak dene ye kaun aaya hai...

Kiski aahat sunta hoon veerane mein


Latest Posts