आँखें मुझे तलवों से वो मलने नहीं देते.. By Akbar Allahabadi

  Sher-o-shayari You are here
Views: 443
आँखें मुझे तलवों से वो मलने नहीं देते

अरमान मेरे दिल का निकलने नहीं देते

ख़ातिर से तेरी याद को टलने नहीं देते

सच है कि हमीं दिल को संभलने नहीं देते

किस नाज़ से कहते हैं वो झुंझला के शब-ए-वस्ल

तुम तो हमें करवट भी बदलने नहीं देते

परवानों ने फ़ानूस को देखा तो ये बोले

क्यों हम को जलाते हो कि जलने नहीं देते

हैरान हूँ किस तरह करूँ अर्ज़-ए-तमन्ना

दुश्मन को तो पहलू से वो टलने नहीं देते

दिल वो है कि फ़रियाद से लबरेज़ है हर वक़्त

हम वो हैं कि कुछ मुँह से निकलने नहीं देते

गर्मी-ए-मोहब्बत में वो है आह से माने'

पंखा नफ़स-ए-सर्द का झलने नहीं देते

(aankhen mujhe talvon se vo malne nahin dete

armaan mere dil kaa nikalne nahin dete

Khaatir se teri yaad ko talne nahin dete

sach hai ki hamin dil ko sanbhalne nahin dete

kis naaz se kahte hain vo jhunjhla ke shab-e-vasl

tum to hamein karvat bhi badalne nahin dete

paravaanon ne faanus ko dekha to ye bole

kyon hum ko jalate ho ki jalne nahin dete

hairan hun kis tarah karun arz-e-tamanna

dushman ko to pahelu se vo talne nahin dete

dil vo hai ki fariyaad se labrez hai har vaqt

ham vo hain ki kuchh muunh se nikalne nahin dete

garmii-e-mohabbat mein vo hai aah se maane’

pankhaa nafas-e-sard kaa jhalane nahin dete)


Latest Posts

  Posted on Friday, August 14th, 2009 at 2:43 PM under   Sher-o-shayari | RSS 2.0 Feed