तालिबान ने किया 400 छात्रों का अपहरण (Taliban abduct 400 students)

  उड़ते तीर You are here
Views: 770
इस्लामाबाद। स्वात, बुनेर और दीर में सैन्य कार्रवाई में बुरी तरह टूट चुके तालिबान ने अब बदला लेना शुरू कर दिया है। पश्चिमोत्तार सीमांत प्रांत में आतंकियों ने सोमवार को एक कैडेट कालेज के काफिले पर हमला कर 400 छात्रों व कर्मचारियों का अपहरण कर लिया। जबकि इसी प्रांत के काहोट में आतंकियों ने एक भीड़ भरे बस स्टाप पर धमाका कर चार लोगों की जान ले ली।

पश्चिमोत्तार सीमांत प्रांत के रजमाक कैडेट कालेज के छात्र कालेज में छुंिट्टयां होने के बाद अपने बन्नू शहर की ओर जा रहे थे। 29 बसों के इस काफिले के साथ सुरक्षा गार्ड भी थे। उत्तारी वजीरिस्तान में खाजोरी चेक पोस्ट से निकलने के बाद हथियारों से लैस आतंकियों ने काफिले पर हमला कर दिया। शुरुआत में अपहृत छात्रों की संख्या पर भ्रम फैल गया था। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री युसूफ रजा गिलानी के सलाहकार मिर्जा मुहम्मद ने कहा था कि सिर्फ 17 छात्रों का ही अपहरण हुआ है। हालांकि बाद में खबरें आई कि 17 छात्रों को ले जा रही एक बस ही आतंकियों के चंगुल से निकल सकी, बाद में पुलिस अधिकारियों ने स्पष्ट किया कि 29 बसों के काफिले में से दो बसें आतंकियों के चंगुल से बचने में कामयाब रहीं। बन्नू तक पहुंचे छात्रों ने पुलिस को बताया कि हमलावर तालिबान के आतंकी ही थे। सभी छात्र 15 से 26 वर्ष के हैं। ये लोग कालेज में छुंट्टी होने के बाद अपने घरों की ओर जा रहे थे।

मुहम्मद ने बताया कि स्थानीय पुलिस व प्रशासन ने अपहृत छात्रों की रिहाई के लिए हर संभव प्रयास शुरू कर दिया है। अभी तक तालिबान ने इन छात्रों की रिहाई के लिए कोई शर्त या मांग नहीं रखी है।

अपनी बदले की कार्रवाई में तालिबान ने दूसरा हमला पश्चिमोत्तार सीमांत प्रांत के कोहाट शहर में किया। यहां एक भीड़ भरे बस स्टाप पर हुए धमाके में 4 लोगों की मौत हो गई, जबकि दर्जनों घायल हो गए।

ध्यान रहे कि तालिबान कमांडरों ने सैन्य कार्रवाई के विरोध में पूरे पाकिस्तान में बम धमाकों और आत्मघाती हमलों की झड़ी लगा देने की धमकी दी है। कोहाट के ताजा हमले को इसी नजरिए से देखा जा रहा है। धमाके के बाद कोहाट के सभी अस्पतालों को अलर्ट कर दिया गया और घायलों के उपचार में डाक्टरों को जुट जाने का निर्देश जारी किया गया। प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी ने कोहाट विस्फोट की निंदा करते हुए कहा कि इस तरह की कायराना हरकतों से सरकार आतंकियों के सफाये के संकल्प से पीछे नहीं हटेगी।

तालिबान का एक और गढ़ घिरा

इस्लामाबाद। स्वात की राजधानी मिंगोरा पर नियंत्रण के बाद पाकिस्तानी सेना ने पश्चिमोत्तार सीमांत प्रांत के एक अन्य प्रमुख शहर चारबाग को घेर लिया है। तालिबान के कई आला कमांडरों के यहां छिपे होने की आशंका है।

पाकिस्तान के अशांत पश्चिमोत्तार सीमांत प्रांत में विभिन्न जगहों पर सेना और तालिबान के बीच हुई ताजा मुठभेड़ में 18 आतंकियों की मौत हो गई और 13 को गिरफ्तार कर लिया गया। इस दौरान दो सैनिक भी मारे गए। सेना को स्वात के दो अन्य प्रमुख शहरों काबल और सिरसनई में तालिबान से कड़ी टक्कर मिल रही है। सेना ने यहां हवाई हमले भी किए हैं। सेना ने तालिबान को हथियारों की आपूर्ति रोकने के लिए ख्वाजाखेल और मंगलावर के साथ उत्तारी और दक्षिणी चारबाग में जांच चौकियां स्थापित की हैं। सेना कलाम घाटी में भी प्रवेश कर गई है। यह मिंगोरा से 90 किमी दूर है। माना जा रहा है कि आतंकी यहां से सेना पर गोलाबारी कर रहे थे। सेना पेचर में काफी अंदर तक घुस गई है। माना जाता है कि तालिबान कमांडर मौलाना फजलुल्ला अपने साथियों के साथ यहीं छुपा है।

उधर, अमेरिकी मीडिया की एक रिपोर्ट में दावा किया गया कि सैन्य कार्रवाई और अमेरिकी ड्रोन हमलों ने अल कायदा की जड़ें हिला दी हैं। 'वाशिंगटन पोस्ट' के मुताबिक अफगानिस्तान की सीमा से लगे पाकिस्तान के कबाइली इलाकों में इस संयुक्त अभियान में अब तक अल कायदा के 20 आला कमांडरों के साथ कई आतंकी मारे जा चुके है।

Source: Dainik jagran

================

In English

Islamabad: Suspected militants armed with rockets, grenades and automatic weapons abducted some 400 students, staff and relatives driving away from a school in a troubled tribal region in northwest Pakistan on Monday, police said. The brazen abduction came amid rising militant violence in Pakistan’s tribal belt — actions the military says are aimed at distracting it from its offensive against the Taliban in the nearby Swat Valley. Details were still emerging Monday about the nature of the attack. No group immediately claimed responsibility. Police official Meer Sardar said the abduction occurred about 30 kilometers from Razmak Cadet College in North Waziristan tribal area. The people were leaving the school area after they were warned to get out in a phone call from a man they believed to be a political official, Sardar said, citing accounts from a group of 17 who managed to get away. Around 30 buses, cars and other vehicles were carrying the students, staff and others when they were stopped along the road by a large group of alleged militants in their own vehicles. The details were confirmed by a staff member at the school who was among those who escaped. He requested anonymity out of fear of Taliban reprisal but said the school’s principal was among those abducted. His vehicle happened to be behind a truck on the road, and it was less visible, so the driver slipped away. The staffer said the assailants carried rockets, Kalashnikovs, hand grenades and other weapons. Meanwhile, Pakistani military lifted curfews on Monday in seven areas in the Swat Valley in a further sign of confidence that its offensive against the Taliban is making progress, while militants killed two soldiers in a nearby tribal region that could be the next front in the army’s campaign.

Source: Times of India


Latest Posts